Horizontal Banner
×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 807

Open Corruption-2: नगर पालिका उपाध्यक्ष रामाधार बोले- हम आगे बढ़ेंगे, तब File आगे बढ़ेगा, देखिए वीडियो पार्ट-1 Featured

शुक्रवार (25 सितंबर) को नोट की गड्‌डी लेते वायरल हुई थी फोटो, शनिवार (26 सितंबर) को राजा सोलंकी ने फेसबुक वाल पर पोस्ट की पहली वीडियो।

खैरागढ़. नोट की गड्‌डी लेते हुए वायरल हुई फोटो के बाद जोगी कांग्रेस के युवा नेता राजा सोलंकी ने शनिवार (26 सितंबर) को अपने फेसबुक वाल पर इसी से जुड़ी वीडियो भी वायरल कर दी। राजा ने लिखा है कि वीडियो के अगली पार्ट के लिए इंतजार करिए।

यह भी पढ़ें: नोट की गड्‌डी लेते वायरल हुई नगर पालिका उपाध्यक्ष रजक की तस्वीर, लिखा- धड़ल्ले से चल रही वसूली

नगर पालिका की कमीशनखोरी उजागर करती तस्वीर के बाद यह पहला वीडियो है, जिसमें उपाध्यक्ष रामाधार रजक दो अन्य लोगों के साथ बात करते दिखाई दे रहे हैं। वीडियो में भी सीन नगर पालिका के पीछे वाले गेट के सामने बने टिन शेड का है। इसमें बख्शी स्कूल का भाग भी दिखाई दे रहा है।

इससे पहले शुक्रवार को राजा सोलंकी ने अपने फेसबुक वाल पर एक तस्वीर पोस्ट की है। इस तस्वीर में नगर पालिका उपाध्यक्ष रामाधार रजक का चेहरा स्पष्ट था। नोट देते और गड्‌डी को थामते रजक के हाथों को भी फोटो से समझा जा सकता था, लेकिन शनिवार को डाली गई वीडियो में हुई बातचीत ने आगे की पूरी कहानी स्पष्ट कर दी। हालांकि इस वीडियो में रामाधार रजक नोट लेते हुए दिखाई नहीं दे रहे।

यह भी पढ़ें: नोट की गड्‌डी लेते वायरल हुई नगर पालिका उपाध्यक्ष रजक की तस्वीर, लिखा- धड़ल्ले से चल रही वसूली

रजक ने चेक शर्ट पहन रखी है और वे बातचीत करते हुए बाइक पर बैठ रहे हैं। राजा ने तस्वीर पोस्ट करते समय लिखा था कि नगर पालिका उपाध्यक्ष की धड्ल्ले से चल रही वसूली। वीडियो में रजक के तेवर देखने वाले हैं। रागनीति के पास वीडियो की एक कॉपी भी है, जिसे रागनीति के यूट्यूब चैनल पर भी देखा जा सकता है।

जानिए वीडियो में क्या कह रहे हैं नगर पालिका उपाध्यक्ष रामाधार रजक

सीन: नगर पालिका के पीछे वाले गेट के सामने बने टीन शेड का है।

‘पूरा भरोसा है आपके ऊपर… आप लोग अपने हिसाब से उसकी फाइल को…’, रामाधार रजक के सामने दो लोग खड़े हैं। उनकी बायीं दिशा में खड़ा व्यक्ति दाएं हाथ से खंभे को पकड़े हुए यह बात कह रहा है।

रामाधार: (उसकी बात को बीच में बात काटते हुए) जब हम आगे बढ़ेंगे, तब फाइल आगे बढ़ेगा। हम जब पीछे हट जाएंगे…’

बाएं खड़ा व्यक्ति: इसमें तो सीधा-सीधा ऐसा है कि… जो जांच का आदेश है, उस पर कार्रवाई करेगा, वो आपके ऊपर में है। जो भी आप उसको करवाओगे।

रामाधार: (बायां हाथ जेब से निकालकर कमर पर रखते हुए) आपसे हटाकर दूसरी तरफ मोड़ देंगे ना, अपन! भई, आपका नाम पूरा हट जाएगा। वो सब दब जाएगा, यहीं दब जाएगा।

तीसरा व्यक्ति: भैया… बेचारे इंजीनियर के ऊपर गाज मत गिरवा देना।

रामाधार: इंजीनियर का मतलब आप लोगों से है यार! भैया (बाएं खड़े व्यक्ति के लिए संबोधन) को क्या मतलब इंजीनियर से!

तीसरा व्यक्ति: मैं वो नहीं बोल रहा हूं। किसी के ऊपर नहीं आना चाहिए, ऐसा!

रामाधार: (बाएं हाथ से बाइक के पिछले हिस्से को सहलाते हुए) पूरा जड़ से साफ कर देंगे उसको।

तीसरा व्यक्ति: हव भैया, देखिए इंजीनियर से मैं जुड़ा हूं। अपन दोनों जुड़े हुए हैं।

रामाधार: ठीक है ना।

फिलहाल वीडियो पार्ट-1 में इतनी ही बातें हैं… देखिए पूरी वीडियो

 

रामाधार ने बोर खनन को लेकर तीन साल पहले की थी शिकायत

रामाधार पहले ही कह चुके हैं कि यह विरोधियों की साजिश है, लेकिन तीन साल पहले उन्होंने बोर उत्खनन में भ्रष्टाचार का मामला उठाया था और सीएमओ से इसकी जांच करने के लिए कहा था।

उन्होंने कहा था कि तत्कालीन उप अभियंता संजय मारकंडेय की बनाई हुई माप पुस्तिका, भ्रामक, बनावटी व वास्तविकता से परे है। रजक ने सीधे तौर पर कहा था कि गर्मी में पेयजल की समस्या को देखते हुए विभिन्न वार्डों में 16 नग बोर खनन व हैंडपंप स्थापना के लिए निविदा प्रक्रिया पूरी कर कार्यादेश जारी किया था, 24 मई को शिव बोर वेल्स एवं पम्प्स राजनांदगांव को कार्यादेश जारी किया गया।

यह भी पढ़ें: नोट की गड्‌डी लेते वायरल हुई नगर पालिका उपाध्यक्ष रजक की तस्वीर, लिखा- धड़ल्ले से चल रही वसूली

लेकिन निविदाकार ठेकेदार ने नियमानुसार काम नहीं किया,व्यापक रूप से धांधली करते हुए शेड्यूल में स्वीकृत स्पेशिफिकेशन एवं आइटम के अनुरूप काम नहीं किया गया। उपाध्यक्ष ने सीएमओ से लिखित में मामले की शिकायत कर के बताया है कि बोर उत्खनन में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार किया गया है। इससे शासन को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है।

Rate this item
(1 Vote)
Last modified on Saturday, 26 September 2020 12:28

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.