mahotsav ad
×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 807

बंकिम दृष्टि

बंकिम दृष्टि (80)

सुनो, सुनो, सुनो..!

‘सभी ध्यान से सुनो! जंगल पर आफत आई है। चिंता की खाई गहराई है। दरबार में सुनवाई

 

खैरागढ़ से लगा हुआ एक गांव है, दपका! वहीं का सीन पढ़िए/देखिए। घड़ी का छोटा कांटा 3 पर है

इंद्र का सिंहासन डोला। डोलना ही था। देवलोक में आपात बैठक बुलाई गई, लेकिन खैरागढ़ में अफसरों की कुर्सी टस

मुखरता लोकतंत्र की निशानी है। खुद दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने टूलकिट मामले में जमानत याचिका की सुनवाई मंजूर

सच मानिए, दाग उभर आए हैं। शायद, वर्दी वालों को न दिखाई दें, किन्तु आम जनता की नजरों से यह

किसान ने शिकारी से बचने के लिए तोते को चार सूत्र वाक्य सिखाए थे। तोते ने चारों रटे और जंगल

इतिहास गवाह है, कैसे मुट्ठीभर हमलावर रास्ते से गुजरते और दोनों तरफ खड़े लाखों लोग मूकदर्शक बने तमाशा देखते थे।

देखते ही देखते पांच साल बीत गए। परिषद की आखिरी बैठक भी आम रही। सोए हुए मुद्दों को जगाने वाला

कला के साधक परेशान हैं। सुर नहीं मिला पा रहे। मिलाएं भी तो कैसे, यह राग सिखाया ही नहीं गया।

खेमे में बंट चुकी भाजपा से आम खैरागढ़िया अंजान नहीं। अब मुखौटे पहनकर इन्हें बरगलाना मुश्किल है। ये मोहरे पहचानते

Page 1 of 6

Latest Tweets

RT @narendramodi: Speaking at the meeting with Chief Ministers. https://t.co/oJ5bhIpdBE
RT @HealthCgGov: आज 10,310 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की पहचान हुई वहीं 2,609 मरीज़ स्वस्थ होने के उपरांत डिस्चार्ज/रिकवर्ड हुए। @TS_SinghD…
RT @AmitShah: Addressing media in Jagdalpur, Chhattisgarh. https://t.co/T7naPXH0Bc
Follow Ragneeti on Twitter